Friday, October 20, 2017

The Nazi Bell - भारतीय प्राचीन ज्ञान से बनाया हिटलर का Time Machine ... Myth Or Reality

नमस्कार मित्रो स्वागत हे आपका मिथक टीवी में.अगर आपने अभीतक हमारे फेसबुक पेज को like  नहीं किया तो, इंडियन mythology और इतिहास से जुडी कथाओ को सबसे पहले पढने के लिए इसे like करे.


हिटलर....!!! सिर्फ नाम लेते ही सामने एक तस्वीर खड़ी हो जाती हे, एक तानाशाह...एक हत्यारा... जर्मनी का महानायक .... हजारो लोग हजारो नजरिये से इस इन्सान को देखते हे. बहुतांश लोगो को वो इन्सान के रूप में दानव नजर आता हे ... हजारो लोगो को उसमे एक हत्यारा दीखता हे.... पर ये तो मानना पड़ेगा की हिटलर ने जर्मनी में राष्ट्रवाद की नयी उर्जा भरदी थी... महज कुछ ही सालो में डूबता हुवा जर्मनी ... न सिर्फ दुनिया पर राज करने का सपना देखने लगा बल्कि उसने लगभग ऐसा कर भी दिया था...!!!
जब हमने इस इन्सान को अपने नजरिये से देखा तो हमें हिटलर औरो से काफी अलग लगा, बहोतसे लोगो को पता नहीं पर हिटलर प्राचीन भारतीय ग्रंथो और उनमें समाये ज्ञान की और काफी आकर्षित था और उसे इनका महत्त्व भी भलीभाती पता था. और इसका सबसे बड़ा प्रमाण हे नाज़ी पार्टी का सिंबल स्वस्तिक.


ये तो पूरी दुनिया जानती हे की हिटलर अपने आप को और जर्मन लोगो को आर्यन कहता था, जो आर्य शब्द से लिया गया हे. आर्य शब्द सबसे पहले ऋग्वेद में आया हे और इसका मतलब हे "सम्मान करने लायक". रामायण के अनुसार प्रभु श्रीराम भी एक आर्य थे. और आज के भारत में लगभग ६५% लोग आर्य वंश के हे. भारत में एक और महान वंश रहता हे... द्रविड़ वंश जिसकी बात हम कभी और करेंगे.
कहा जाता हे की, नाझी शासक हिटलर और उनके काफी बड़े बड़े अफसरों को प्राचीन भारतीय ग्रंथो के प्रति अपार आकर्षण था. और कथित तौर पर ये बताया जाता हे की हिटलर ने १९३८ से लेकर १९३९ तक भारत में एक अभियान चलाया जिसका उद्देश प्राचीन भारतीय ग्रंथो का संकलन करना और संस्कृत की Manuscripts को ढून्दना था. साथ ही वो बहोतसे संस्कृत के ज्ञानियों को जर्मनी ले गया.

कहा तो ये भी जाता हे की, नाझी जर्मनी ने एक टीम बनायीं थी जो महाभारत और रामायण में वर्णित अस्रो के निर्माण की सम्भावनाये तलाशती थी.
हिटलर ही वो पहला इन्सान था जिसने प्राचीन भारतीय विमानशास्त्र से प्रेरणा लेकर Merqury Vortex Engine बनाया था. जिसका उपयोग कथित तौर पर बनी The Bell नामक Time Machine में भी किया गया था.


आप मंदिर जरुर गए होगे, हर मंदिर के बाहर एक घंटा लटकी हुयी होती हे. हिटलर और उसके साथियों का ये कहना था की घंटे में लटका पेंडुलम एक उर्जा का निर्माण करता हे और इसकी सहायता से समय यात्रा या अत्याधिक तेजी से अंतरीक्ष यात्रा करना संभव हे. इस आधार पर उन्होंने The Bell का निर्माण किया जो दिखने में एक घंटा की तरह ही थी और उसके बिच में Merqury Vortex Engine को बिठाया गया जहा merqury यानी पारे का Ionisation होता और वो पर्याप्त उर्जा निर्माण करता.


साथही हिटलर का ये मानना था की मंदिरों में लगी घंटाओ का उपयोग सतयुग और त्रतायुग में होता था. द्वापरयुग में इसका उपयोग न के बराबर होने लगा और कलियुग में ये बिलकुल बंद हो गया.
कुछ अफवाहों की माने तो हिटलर ने आत्महत्या की ही नहीं थी, वो तो इस मशीन के जरिये भविष्य में चला गया था. उनकी माने तो हिटलर आपना बदला लेने जरुर फिर आएगा.


आपको हमारा ये एपिसोड कैसा लगा, अगर आप को ये एपिसोड पसंद आया हो तो कमेन्ट करे और like और शेर करना न भूले.

Disqus Comments